Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Tuesday, 7 June 2022

स्वास्थ्य विभाग द्वारा महिलाओं के हित मे अनोखी पहल

 स्वास्थ्य विभाग का अनोखी पहल जिले में मिनी पीएमएसएमए की हुई शुरुआत


•गर्भवती महिलाओं के लिए राज्य में सिर्फ मधुबनी जिले में किया गया है प्रयास

•प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत शिविर का होता है आयोजन  


मधुबनी , 7 जून । 

जिले में सुरक्षित प्रसव व संस्थागत प्रसव को बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा एक नई पहल की गई। प्रधानमंत्री मातृत्व सुरक्षित अभियान के तहत प्रत्येक माह की 9 तारीख को विशेष शिविर लगाकर गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्व (एएनसी) जाँच की जाती है।  जिसमें गर्भवती महिला अपने क्षेत्र की आशा कार्यकर्ता के सहयोग से अपने-अपने नजदीकी स्वास्थ्य संस्थान में सुरक्षित और सामान्य प्रसव के लिए एएनसी जाँच करवाने को आती है। जाँच के पश्चात चिकित्सकों द्वारा गर्भवती को आवश्यकतानुसार चिकित्सा परामर्श दिया जाता है। जिसमें रहन-सहन, साफ-सफाई, खान-पान, गर्भावस्था के दौरान बरती जाने वाली सावधानियाँ,  समेत अन्य चिकित्सा परामर्श विस्तार पूर्वक दिया जाता है। अब मधुबनी स्वास्थ्य प्रशासन के द्वारा एक नई पहल करते हुए प्रत्येक सप्ताह के बृहस्पतिवार को एक अनुमंडल का चुनाव कर उसके अंतर्गत आने वाले सभी पीएचसी पर मिनी पीएमएसए का शिविर लगाया जा रहा है। जिसमें गर्भवती महिलाओं का प्रसव पूर्व जांच की जाती है। इस अभियान की जिले में शुरुआत भी कर दी गई है जो राज्य में अपनी तरह का एक अनोखा और पहला प्रयास है। कार्यक्रम के तहत अबतक 19 मई को फुलपरास अनुमंडल के अंतर्गत सभी पीएचसी में, 26 मई को जयनगर अनुमंडल के सभी पीएचसी में,3 जून को बेनीपट्टी में मिनी पीएमएसएमए का शिविर लगाया गया है। .


09 जून को पुनः होगा शिविर का आयोजन : 


 जिला कार्यक्रम प्रबंधक डॉ  दयाशंकर निधि ने बताया 9 जून (बृहस्पतिवार) को जिले के सभी स्वास्थ्य संस्थानों में उक्त शिविर का आयोजन कर गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्व जाँच की जाएगी। वहीं, उन्होंने बताया, आयोजित शिविर में बड़ी संख्या में गर्भवती महिलाएं शामिल होगी और जिसमें सुरक्षित व सामान्य प्रसव को बढ़ावा देने के लिए जाँच की जाएगी। शिविर में जाँच कर रही  मेडिकल टीम द्वारा गर्भवती महिलाओं की ब्लड, यूरिन, एचआईवी, ब्लड ग्रुप, बीपी, हार्ट-बिट आदि की भी जाँच की जाएगी । शिविर में  एएनसी जांच के लिए मौजूद महिलाओं को प्रसव अवधि के दौरान किसी भी प्रकार की शारीरिक परेशानी होने पर तुरंत चिकित्सकों से जाँच कराने की सलाह दी जाती है। .


सुरक्षित और सामान्य प्रसव के लिए प्रसव पूर्व जाँच जरूरी :- 


सिविल सर्जन डॉ सुनील कुमार झा ने बताया, प्रसव अवधि के दौरान किसी भी प्रकार की परेशानी होने पर तुरंत जाँच करानी चाहिए। दरअसल, समय पर जाँच कराने से किसी भी प्रकार की परेशानी का शुरुआती दौर में ही पता चल जाता है और पता लगने पर ही उसे आसानी से दूर किया जा सकता है। इसके लिए सरकार द्वारा प्रत्येक माह की नौ तारीख को पीएचसी स्तर पर एएनसी जाँच की व्यवस्था की गई है। ताकि प्रसव के दौरान गर्भवती महिलाओं को किसी प्रकार की अनावश्यक शारीरिक परेशानी का सामना नहीं करना पड़े और सुरक्षित प्रसव को बढ़ावा मिल सके । साथ ही सुरक्षित और सामान्य प्रसव को बढ़ावा देने के लिए  गर्भवती महिलाओं को प्रसव पूर्व जाँच कराना जरूरी है।


शिशु-मृत्यु दर में कमी लाने की है बेहतर व्यवस्था :-

सरकार द्वारा गर्भवती महिलाओं की स्वास्थ्य जाँच के लिए की गई यह व्यवस्था शिशु-मृत्यु दर में कमी लाने की बेहतर व्यवस्था है। सरकार की यह व्यवस्था मातृ और शिशु मृत्यु दर को कम करने की दिशा में अच्छी पहल है। इससे ना सिर्फ सुरक्षित प्रसव होगा, बल्कि शिशु-मृत्यु दर पर विराम लगेगा। इसके साथ ही जच्चा-बच्चा दोनों को अनावश्यक परेशानियाँ का सामना नहीं करना पड़ेगा।


No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages

फ्लोर टेस्ट के आदेश को शिवसेना ने SC में दी चुनौती, तत्काल रोक की मांग महाराष्ट्र सियासी संकट : फडनवीस ने राज्यपाल से की फ्लोर टेस्ट की मांग, एकनाथ शिंदे ने सोमवार की देर रात बुलाई आपात बैठक, उदयपुर : हत्यारोपियों के साथ कन्हैयालाल का समझौता कराने वाला पुलिसकर्मी सस्पेंड जमानत पर रिहा लालू प्रसाद की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, चारा घोटाले के इस मामले में सजा बढ़ाने की हुई मांग, सीबीआई ने कहा - कम मिली है सजा | बिहार- निकाय चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारी, मतदाता सूची के प्रकाशन को लेकर जारी किया कार्यक्रम