Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Wednesday, 22 June 2022

ज़िले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर योग दिवस आयोजित

 नियमित योग कर अवसाद और मानसिक तनाव से रहे  दूर, शारीरिक रूप से रहें स्वस्थ

टीबी के लक्षणों को  नियंत्रित करने में मदद करता है योग

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 के लिए थीम योगा फॉर ह्यूमैनिटी  रखा गया है


समस्तीपुर , 21जून। 

हर साल 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। दुनिया के तमाम देश योग के महत्व को समझते हुए योग दिवस को मनाते हैं। मंगलवार को दुनियाभर में आठवां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया।  मंत्रालय के द्वारा इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 के लिए थीम योगा फॉर ह्यूमैनिटी रखा गया है.।  योग का अभ्यास शरीर और मस्तिष्क की सेहत के लिए फायदेमंद है। योग शरीर को रोगमुक्त रखता और मन को शांति भी देता है। योग भारतीय संस्कृति से जुड़ा है, जो अब विदेशों में भी फैल गया है। इस अवसर पर स्वास्थ्य विभाग के द्वारा जिले में आयुष्मान भारत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर  एवं अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर भी अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन किया गया। . सिविल सर्जन डॉ एस.के. चौधरी ने बताया कि जिले के समस्त प्रखंडों  के अंतर्गत संचालित हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर एवं अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन कर विभिन्न जागरूकता गतिविधियों का संचालन कर योग के महत्व के बारे में आमजन को बताया गया। साथ ही सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर योग सत्रों का आयोजन किया गया। . 


टीबी के लक्षणों को भी नियंत्रित करने में मदद करता है योग:


संचारी रोग पदाधिकारी डॉ. विशाल कुमार ने बताया योग टीबी के लक्षणों को भी नियंत्रित करने में मदद करता है। .योग की प्रमुख क्रियाओं में सूर्य नमस्कार, प्राणायाम, मंडूकासन, शशकासन, ताड़ासन, तिर्यक ताड़ासन, उष्ट्रासन, योगमुद्रासन, गोमुखासन, भुजंगासन, पादहस्तासन, पवनमुक्तासन, मर्कटासन, वक्रासन, कटिचक्रासन, भुजंगासन आदि मुख्य रूप से शामिल किये गये हैं जो शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक माने गये हैं। .


शारीरिक व मानसिक अवसाद दूर करने में योग सहायक :


स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि योग से शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से व्यक्ति स्वस्थ्य रहता है.।  कोविड काल में रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत रखने के लिए इसका महत्व और भी अधिक बढ़ा है.।  नियमित रूप से योग अपना कर अवसाद और तनाव को भी दूर किया जा सकता है। .


योग से बढ़ता है रक्तसंचार व फेफड़ों को मिलती है ताकत:


डीपीसी आदित्य झा ने बताया योग की कई प्रक्रियाएं फेफड़ों के  रक्तसंचार को बढ़ाती हैं। . प्राणायाम श्वसन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए एक विशेष योगाभ्यास है। . श्वसन क्रिया के दौरान गहरी सांस लेते हुए वायु को भीतर खींचते हैं। . सांस को अधिक से अधिक समय तक रोके रखते और अंत में धीरे धीरे सांस छोड़ते हैं। . इससे शरीर को आवश्यक मात्रा में ऑक्सीजन  प्राप्त होता है.।  टीबी सहित श्वसन संबंधी रोग को दूर करने के लिए यह एक महत्वपूर्ण अभ्यास है.।  इसके अलावा अनुलोम-विलोम, प्राणायाम भी फेफड़ों को मजबूत रखता है। . योगा के लिए शांत और साफ जगह के चयन का ध्यान रखना चाहिए.।  इसके अलावा कई अन्य योग प्रक्रियाएं की जानी चाहिए। .


No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages

फ्लोर टेस्ट के आदेश को शिवसेना ने SC में दी चुनौती, तत्काल रोक की मांग महाराष्ट्र सियासी संकट : फडनवीस ने राज्यपाल से की फ्लोर टेस्ट की मांग, एकनाथ शिंदे ने सोमवार की देर रात बुलाई आपात बैठक, उदयपुर : हत्यारोपियों के साथ कन्हैयालाल का समझौता कराने वाला पुलिसकर्मी सस्पेंड जमानत पर रिहा लालू प्रसाद की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, चारा घोटाले के इस मामले में सजा बढ़ाने की हुई मांग, सीबीआई ने कहा - कम मिली है सजा | बिहार- निकाय चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारी, मतदाता सूची के प्रकाशन को लेकर जारी किया कार्यक्रम