Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Thursday, 17 March 2022

पोषण अभियान: कुपोषण मिटाने में सार्थक संदेश देगा आईसीडीएस

 पोषण अभियान: कुपोषण मिटाने में सार्थक संदेश देगा आईसीडीएस 




-जिले में 21 से 27 मार्च तक होगी स्वस्थ्य बालक-बालिका स्पर्धा


मधुबनी ,17 मार्च । जिले में कुपोषण को दूर करने व अभिभावकों को पोषक आहार के प्रति जागरूक करने के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा 21 से 27 मार्च के बीच राष्ट्रव्यापी अभियान के तहत स्वस्थ बालक-बालिका स्पर्धा का आयोजन किया जाएगा। डीपीओ शोभा सिन्हा  ने बताया कि अभियान में भागीदारी के लिए वेबसाइट पर 21 मार्च तक पंजीकरण करवा सकते हैं। पोषण अभियान के जिला समन्वयक स्मित प्रतीक सिन्हा ने विभागीय अभियान के बारे में बताया कि 21 से 27 मार्च तक होने वाली स्वस्थ्य बालक-बालिका स्पर्धा में केवल पंजीकृत बालक-बालिका ही भाग ले सकते हैं। कार्यक्रम के तहत 0 से 6 वर्ष  आयु वर्ग के बच्चों की पोषण स्थिति में सुधार, स्वस्थ्य बच्चों की तुलना में कुपोषित बच्चों पर अधिक ध्यान, बच्चों के स्वास्थ्य और पोषण से संबंधित मुद्दों के साथ बड़े पैमाने पर समुदाय का भावनात्मक जुड़ाव पैदा करना, इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि इस तरह के आयोजन पोषण, स्वास्थ्य और कल्याण के मुद्दों के लिए समुदाय को संगठित और संवेदनशील बनाने के साथ ही स्वस्थ्य बनाने के लिए माता- पिता और बच्चों में प्रतिस्पर्धा की भावना पैदा करेंगे।


अभियान में भागीदार बनने के लिए करें रजिस्ट्रेशन:

महिला एवं बाल विकास की डीपीओ शोभा सिन्हा  ने बताया कि स्पर्धा का पंजीकरण के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, लेडी सुपरवाइजर तथा सभी सीडीपीओ को निर्देशित किया गया है । इस कार्यक्रम में 0 से 6 वर्ष तक की आयु के बच्चे भाग ले सकते है। पंजीकृत होने पर बच्चें को प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा।


छह वर्ष तक के बच्चों के पोषण स्तर में सुधार लाना है उद्देध्य:

डीपीओ ने बताया कि पोषण अभियान के तहत मधुबनी में पोषण विषय पर जागरूकता और जन भागीदारी बढ़ाने के लिए विविध कार्यक्रम होंगे। 21 से 27मार्च तक स्वस्थ्य बालक बालिका स्पर्धा आयोजित कराने की तैयारी है। इस स्पर्धा के आयोजन का उद्देश्य छह वर्ष तक के बच्चों के पोषण स्तर में सुधार लाना और कुपोषित अतिकुपोषित बच्चों को चिह्नित करना और बच्चों के अभिभावकों को पोषण के प्रति जागरूक करना है। आंगनबाड़ी केंद्रों पर पंजीकृत बच्चों के अलावा अन्य बच्चों के पोषण स्तर में सुधार लाने के लिए लोगों को आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा जागरूक किया जाएगा। इसके अलावा बच्चों के अभिभावकों को प्रोत्साहित भी किया जाएगा। जिससे बच्चे कुपोषण की श्रेणी से बाहर निकल सकें और उनका बेहतर स्वास्थ्य के साथ शारीरिक और मानसिक विकास हो सके.

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages

फ्लोर टेस्ट के आदेश को शिवसेना ने SC में दी चुनौती, तत्काल रोक की मांग महाराष्ट्र सियासी संकट : फडनवीस ने राज्यपाल से की फ्लोर टेस्ट की मांग, एकनाथ शिंदे ने सोमवार की देर रात बुलाई आपात बैठक, उदयपुर : हत्यारोपियों के साथ कन्हैयालाल का समझौता कराने वाला पुलिसकर्मी सस्पेंड जमानत पर रिहा लालू प्रसाद की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, चारा घोटाले के इस मामले में सजा बढ़ाने की हुई मांग, सीबीआई ने कहा - कम मिली है सजा | बिहार- निकाय चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारी, मतदाता सूची के प्रकाशन को लेकर जारी किया कार्यक्रम