Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Thursday, 7 April 2022

जिले में 49% एएनसी के विरुद्ध 38% सुरक्षित संस्थागत प्रसव हुआ

 जिले में 49% एएनसी के विरुद्ध 38% सुरक्षित संस्थागत प्रसव हुआ



•एनएफएचएस 5 के आंकड़ों के अनुसार 76% प्रसव संस्थागत तरीके से होता है

•कार्यपालक निदेशक ने पत्र जारी कर संस्थागत प्रसव में वृद्धि करने का दिया निर्देश

•सरकारी अस्पताल में प्रसव के बाद जननी योजना का मिलता है लाभ

•प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत गर्भवती की होती पूर्ण जांच


मधुबनी,7 अप्रैल ।

सरकार द्वारा संस्थागत प्रसव मातृ मृत्यु अनुपात को कम करने की एक महत्वपूर्ण रणनीति के तहत स्वास्थ्य विभाग कार्य कर रहा है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य सर्वेक्षण 5 के आंकड़ों के अनुसार संस्थागत प्रसव 76% सरकारी संस्थानों में तथा 20% निजी संस्थानों में होता है। वर्ष 2021-22 के नए एचएमआईएस पोर्टल पर संस्थागत प्रसव माह जनवरी 2022 तक मधुबनी जिले में 49% एएनसी के विरुद्ध 38% सुरक्षित संस्थागत प्रसव हुआ। इसी कमी को समीक्षा करते हुए कार्यपालक निदेशक संजय कुमार सिंह ने पत्र जारी कर सिविल सर्जन को आवश्यक दिशा निर्देश जारी किया है। सिविल सर्जन डॉ सुनील कुमार झा ने बताया  गर्भवती महिलाओं के प्रसव प्रबंधन की दिशा में आशा कार्यकर्ता व आंगनबाड़ी सेविकाओं के माध्यम से सामुदायिक स्तर पर जागरूकता और स्वास्थ्य केंद्रों पर आधारभूत संरचना में बदलाव से संस्थागत प्रसव की तस्वीर बदल रही है। जिसका परिणाम है कि अप्रैल 2021 से दिसंबर 2021 तक 36000 से अधिक गर्भवती महिलाओं का जिले में संस्थागत प्रसव हुआ। संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने के लिए गर्भवती महिलाओं को प्रसव के बाद जननी योजना का लाभ दिया जाता है। इसके अलावा प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के अंतर्गत हर माह की  9 वीं तारीख को गर्भवती की पूर्ण जांच की जा रही। जिसमें गर्भवती महिलाओं का गर्भधारण से लेकर प्रसव पूर्व तक पूर्ण जांच सदर अस्पताल सहित सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर की जाती है। सिविल सर्जन डॉ. झा ने बताया सुरक्षित प्रसव के लिए संस्थागत प्रसव जरूरी है। संस्थागत प्रसव अस्पताल में प्रशिक्षित और सक्षम स्वास्थ्य कर्मी की देख-रेख में कराया जाता है। अस्पतालों में मातृ एवं शिशु सुरक्षा के लिए भी सारी सुविधाएं उपलब्ध रहती हैं। साथ ही किसी भी आपात स्थिति यथा रक्त की अल्पता या एस्पेक्सिया जैसी समस्याओं से निपटने की तमाम सुविधाएं अस्पतालों में उपलब्ध होती हैं।


संस्थागत प्रसव के प्रति बढ़ा रुझान:

जिले में आंकड़ों पर गौर करें तो 9 महीने में जिले के सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों पर 36092  गर्भवती महिलाओं का संस्थागत प्रसव कराया गया है। जिसमें 157 सी - सेक्शन (सिजेरियन प्रसव) भी करायी गयी है। आंकड़ों के अनुसार सदर अस्पताल मधुबनी 3681, कलुआही 829, पंडौल 1147, राजनगर 1424, मधेपुर 2938, मधवापुर 537, अंधराठाढ़ी 1299, एसडीएच झंझारपुर 1818, एसडीएच जयनगर 2391, रहिका सदर 1247, लौकही 1424, एसडीएच फुलपरास 1544 लखनौर 729,घोघरडीहा 1827, बाबुबरही 1570, बेनीपट्टी 2517, हरलाखी 1254, बिस्फी 1960,बासोपट्टी 1080, खुटौना 2995, खजौली 1124 लदनिया में 757 संस्थागत प्रसव हुआ।


उच्च जोखिम में सावधानी बहुत जरूरी:

सदर अस्पताल की स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रवृत्ति मिश्रा ने बताया उच्च जोखिम वाली गर्भावस्था वह अवस्था है, जिसमें महिला या उसके भ्रूण के स्वास्थ्य या जीवन को खतरा होता है। किसी भी गर्भावस्था में जहां जटिलताओं को संभावना अधिक होती है, उस गर्भावस्था को हाई रिस्क प्रेग्नेंसी या उच्च जोखिम वाली गर्भावस्था में रखा जाता है। इस तरह की गर्भावस्था को प्रशिक्षित चिकित्सक की विशिष्ट देखभाल की आवश्यकता होती है। घर में यदि कोई सदस्य कोरोना संक्रमित है तो गर्भवती के संपर्क में न आएं। खानपान की रूटीन का पालन करना जरूरी है। डाइट में विटामिन को जरूर शामिल करें । जिससे कि डाइट लेने में किसी प्रकार की समस्या ना हो । ऐसे में तेल, घी और मसालेदार खाने से परहेज करें ।


जननी बाल सुरक्षा योजना के आर्थिक लाभ:

 जिला कार्यक्रम प्रबंधक डॉ.दयाशंकर निधि ने बताया  ने बताया जननी बाल सुरक्षा योजना के तहत ग्रामीण एवं शहरी दोनों प्रकार की गर्भवती महिलाओं को सरकारी अस्पताल में प्रसव कराने के बाद अलग-अलग प्रोत्साहन राशि सरकार द्वारा प्रदान की जाती है। जिसमें ग्रामीण इलाके की गर्भवती महिलाओं को 1400 रुपये एवं शहरी क्षेत्र की महिलाओं को 1000 रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाती है।  साथ ही इस योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लिए सरकारी अस्पतालों पर संदर्भित करने के लिए आशा कार्यकर्ता को भी प्रोत्साहन राशि देने का प्रावधान है। जिसमें प्रति प्रसव ग्रामीण क्षेत्रों में आशा को 600  रुपये .एवं शहरी क्षेत्रों के लिए आशा को 400 रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाती है। इस योजना के तहत संस्थागत प्रसव पर आम लोगों के बीच जागरूकता बढ़ रही है।


संस्थागत प्रसव मामले में मधुबनी में संतोषजनक प्रदर्शन रहा। कुछ संस्थानों में कमी है जिसे दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। हालांकि संक्रमण के दौर में होम डिलीवरी की संख्या बढ़ी है. 


-जिला कार्यक्रम प्रबंधक डॉ. दया शंकर निधि

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages

फ्लोर टेस्ट के आदेश को शिवसेना ने SC में दी चुनौती, तत्काल रोक की मांग महाराष्ट्र सियासी संकट : फडनवीस ने राज्यपाल से की फ्लोर टेस्ट की मांग, एकनाथ शिंदे ने सोमवार की देर रात बुलाई आपात बैठक, उदयपुर : हत्यारोपियों के साथ कन्हैयालाल का समझौता कराने वाला पुलिसकर्मी सस्पेंड जमानत पर रिहा लालू प्रसाद की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, चारा घोटाले के इस मामले में सजा बढ़ाने की हुई मांग, सीबीआई ने कहा - कम मिली है सजा | बिहार- निकाय चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारी, मतदाता सूची के प्रकाशन को लेकर जारी किया कार्यक्रम