Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Saturday, 30 April 2022

ई टेलीमेडिसीन को लेकर सिविल सर्जन और डीएमएनई ने की समीक्षा

 ई टेलीमेडिसीन को लेकर सिविल सर्जन और डीएमएनई ने की समीक्षा 




65 हब व 399 स्पोक से 1000 से अधिक मरीजों को मिला चिकत्सकीय परामर्श



-वीडियो कॉल के माध्यम से जटिल से जटिल रोगों का मुफ्त इलाज और परामर्श 

- गर्भवती महिलाओं, कुपोषित बच्चों आदि को आसानी से निःशुल्क चिकित्सीय परामर्श हो रहा है उपलब्ध


मधुबनी /29 अप्रैल । 

जिले में स्वास्थ्य केंद्रों के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में टेलीमेडिसीन की सुविधा दी जा रही है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा ग्रामीण एवं सुदूर क्षेत्रों के व्यक्तियों को चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने हेतु ई-संजीवनी के माध्यम से टेलीमेडिसीन से चिकित्सीय परामर्श प्रदान किया जा रहा है। ई-संजीवनी के माध्यम से सभी ग्राम स्वास्थ्य सेवाओं के साथ प्रखंड क्षेत्र के कई ग्रामीण इलाकों यथा  सभी वी. एच. एस. एन. डी  सत्र स्थल सहित, आंगनबाड़ी केंद्रों, पंचायतों एवं अन्य क्षेत्रों में अब तक काफी  संख्या में मरीजों का टेलीमेडिसीन चिकित्सा व्यवस्था का लाभ स्वास्थ्य विभाग द्वारा दिया का गया है। इसी क्रम में शुक्रवार को जिले के 65 हब व 399 स्पोक से 1000 से अधिक मरीजों को मिला चिकत्सकीय परामर्श दिया गया मरीजों को इसके साथ हीं ऑनलाइन पुर्जा भी लिखा गया। जिसका सिविल सर्जन डॉ सुनील कुमार झा  व डीएमएनई सुनील कुमार ने किया समीक्षा किया.वहीं आवश्यक दिशा निर्देश दिया. सिविल सर्जन ने बताया ई टेलीमेडिसिन  के माध्यम से सत्र स्थल पर आने वाले मरीजों को चिकित्सकीय परामर्श के साथ-साथ तत्काल उपलब्ध दवाएं भी दी जाती हैं। इस सुविधा से अब घर बैठे ही मरीजों के कई प्रकार की बीमारियों का इलाज किया जा रहा है। जिससे उनके चेहरों पर खुशी देखी जा रही है। सरकार द्वारा शुरू टेलीमेडिसीन सुविधा के माध्यम से निपुण चिकित्सकों द्वारा परामर्श एवं दवा मिलने से मरीजों को काफी राहत मिल रही है।


टेलीमेडिसीन सेवा के माध्यम से घर बैठे ही समस्याओं का समाधान सम्भव:


जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी सुनील कुमार ने बताया कि टेलीमेडिसीन सेवा के माध्यम से घर बैठे ही समस्याओं का समाधान सम्भव है। वर्तमान हालातों को देखते हुए लोगों को  अपने नजदीकी टेलीमेडिसिन स्वास्थ्य केंद्र पर इलाज करानें में सुविधा हो रही है। इससे अनावश्यक ख़र्च नहीं होती व समय की भी बचत होती है। अस्पतालों की भीड़ को कम करने के लिए टेलीमेडिसिन सेवा की शुरुआत की गयी है। आशा कार्यकर्ताओं को स्वास्थ्य विभाग से टैब दी गई है जो ई-संजीवनी के माध्यम से चिकित्सीय परामर्श की सुविधाए उपलब्ध आसानी से उपलब्ध करा रही है, इससे चिकित्सकों द्वारा ऑनलाइन काउंसिलिंग की जाती है, मरीजों के लक्षण व बीमारियों के जानकारी लेकर डॉ द्वारा तुरंत परामर्श दी जाती है, परामर्श अनुरूप दवायें भी निःशुल्क उपलब्ध करायी जा रहीं है बताया टेलीमेडिसिन स्वास्थ्य देखभाल के क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने की एक उभरती हुई टेक्नोलॉजी है, जो कि डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ को इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए कुछ दूरी पर बैठे रोगी की जांच करने और उसका उपचार करने में मदद करता है। टेलीमेडिसिन सेवा वह सेवा है जिसमें अनुभवी स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा तकनीक का उपयोग करके ऐसे स्थानों पर रोगों की जांच, उपचार , बीमारियों के रोकथाम, मूल्यांकन आदि की सेवा प्रदान करना है, जहां रोगी और डॉक्टर के बीच काफी दूरी होती है।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages

फ्लोर टेस्ट के आदेश को शिवसेना ने SC में दी चुनौती, तत्काल रोक की मांग महाराष्ट्र सियासी संकट : फडनवीस ने राज्यपाल से की फ्लोर टेस्ट की मांग, एकनाथ शिंदे ने सोमवार की देर रात बुलाई आपात बैठक, उदयपुर : हत्यारोपियों के साथ कन्हैयालाल का समझौता कराने वाला पुलिसकर्मी सस्पेंड जमानत पर रिहा लालू प्रसाद की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, चारा घोटाले के इस मामले में सजा बढ़ाने की हुई मांग, सीबीआई ने कहा - कम मिली है सजा | बिहार- निकाय चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारी, मतदाता सूची के प्रकाशन को लेकर जारी किया कार्यक्रम