Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Monday, 21 February 2022

जिले के सभी ऑगनबाड़ी केंद्रों पर अन्नप्राशन का आयोजन

 -जिले के सभी ऑगनबाड़ी केंद्रों पर अन्नप्राशन का आयोजन


-वैक्सीन से वंचित लोगों को भी केंद्र में किया गया टीकाकृत

- 6 माह बाद से शिशुओं को दें अतिरिक्त ऊपरी आहार

- पर्याप्त ऊपरी आहार शिशुओं के शारीरिक व मानसिक विकास में सहायक


मधुबनी , 21 फरवरी ।

शिशुओं के सर्वांगीण विकास के लिए स्तनपान के साथ ही उन्हें बेहतर अतिरिक्त ऊपरी आहार का दिया जाना जरूरी होता है। शनिवार को प्रत्येक माह की तरह 19 तारीख को जिले के सभी प्रखंडों में संचालित ऑगनबाड़ी केंद्रों पर अन्नप्राशन एवं वैक्सीनेशन शिविर का आयोजन हुआ। जिसके माध्यम से जहाँ जिले की सभी सेविका-सहायिका ने अपने-अपने पोषक क्षेत्र में  छः माह की उम्र पार करने वाले बच्चों का अन्नप्राशन कराया वहीं, हेल्थ टीम द्वारा वैक्सीनेशन से वंचित लोगों को टीकाकृत किया गया।


छः माह बाद स्तनपान के साथ ही ऊपरी आहार भी जरूरी :


डीपीओ शोभा सिन्हा ने बताया कि छः महीने बाद से ही शिशुओं को स्तनपान कराने के साथ अतिरिक्त अनुपूरक आहार दिया जाना चाहिए। इस उम्र में शिशुओं का शारीरिक एवं मानसिक विकास तेजी से होता है । इसलिए इस दौरान शिशुओं को ज्यादा आहार की जरूरत होती है। इसे ध्यान में रखते हुए सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर हर महीने 19 तारीख को अन्नप्राशन दिवस के रूप में मनाया जाता है । जिसमें सेविकाएँ छः माह के शिशुओं को खीर खिलाकर उनका अन्नप्राशन करती हैं। इसके साथ ही अन्नप्राशन दिवस पर माता-पिता या परिजनों को सेविकाएँ शिशुओं को दिए जाने वाले अतिरिक्त आहार की जानकारी देती हैं । हर माह अन्नप्राशन दिवस सभी आंगनबाड़ी केंद्र पर आयोजित किया जाता है।


घर के खाद्य पदार्थों से करें अनुपूरक आहार का निर्माण : 

डीपीओ शोभा सिन्हा ने बताया कि शिशु के लिए प्रारंभिक आहार तैयार करने के लिए घर में मौजूद मुख्य खाद्य पदार्थों का उपयोग किया जा सकता है। सूजी, गेहूं का आटा, चावल, बाजरा आदि की सहायता से पानी या दूध में मिलाकर दलिया बनाए जा सकते हैं। बच्चे की आहार में चीनी अथवा गुड़ को भी शामिल करना चाहिए। क्योंकि उन्हें अधिक ऊर्जा की जरूरत होती है। 6 से 9 माह तक के बच्चों को गाढे एवं सुपाच्य दलिया खिलाना चाहिए। वसा की आपूर्ति के लिए आहार में छोटा चम्मच घी या तेल डालना चाहिये। दलिया के अलावा अंडा, मछली, फलों एवं सब्जियों जैसे संरक्षक आहार शिशुओं के विकास में सहायक होते हैं।


- अन्नप्राशन के साथ दो वर्षों तक स्तनपान भी जरूरी : -

जिला समन्वयक स्मित प्रतीक सिन्हा ने बताया कि इस दौरान मौजूद बच्चों की माँ को बच्चे के  स्वस्थ्य शरीर निर्माण को लेकर आवश्यक जानकारियाँ दी गई। जिसमें बताया कि बच्चों को अन्नप्राशन के साथ कम से कम दो वर्षों तक स्तनपान भी  कराएँ  और छः माह तक सिर्फ स्तनपान ही कराएँ । तभी बच्चे के  स्वस्थ शरीर का निर्माण हो पाएगा। इसके अलावा  6 माह से ऊपर के बच्चों के अभिभावकों को बच्चों के लिए पूरक आहार की जरूरत के विषय में जानकारी दी गयी। 6 माह से 9 माह के शिशु को दिन भर में 200 ग्राम सुपाच्य मसला हुआ खाना, 9 से 12 माह में 300 ग्राम मसला हुआ ठोस खाना, 12 से 24 माह में 500 ग्राम तक खाना खिलाने की सलाह दी गयी। इसके अलावा अभिभावकों को बच्चों के दैनिक आहार में हरी पत्तीदार सब्जी और पीले नारंगी फल को शामिल करने की बात बताई गयी। चावल, रोटी, दाल, हरी सब्जी, अंडा एवं अन्य खाद्य पदार्थों के  पोषक तत्वों के विषय में चर्चा कर अभिभावकों को इसके विषय में जागरूक किया गया।


शिशुओं के पोषाहार के लिए इन बातों का रखें ख्याल: 

6 माह बाद शिशुओं को स्तनपान के साथ ही अनुपूरक आहार दें।

स्तनपान के अतिरिक्त दिन में 5 से 6 बार शिशु को अतिरिक्त आहार सुपाच्य भोजन के रूप में दें।

शिशु को मल्टिंग आहार(अंकुरित साबुत अनाज या दाल को सुखाने के बाद पीसकर) देना चाहिए।

माल्टिंग से तैयार आहार से शिशुओं को अधिक ऊर्जा प्राप्त होती है।

शिशु द्वारा अनुपूरक आहार नहीं खाने की स्थिति में भी उन्हें थोडा-थोडा करके कई बार अतिरिक्त भोजन खिलाना चाहिए।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages

फ्लोर टेस्ट के आदेश को शिवसेना ने SC में दी चुनौती, तत्काल रोक की मांग महाराष्ट्र सियासी संकट : फडनवीस ने राज्यपाल से की फ्लोर टेस्ट की मांग, एकनाथ शिंदे ने सोमवार की देर रात बुलाई आपात बैठक, उदयपुर : हत्यारोपियों के साथ कन्हैयालाल का समझौता कराने वाला पुलिसकर्मी सस्पेंड जमानत पर रिहा लालू प्रसाद की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, चारा घोटाले के इस मामले में सजा बढ़ाने की हुई मांग, सीबीआई ने कहा - कम मिली है सजा | बिहार- निकाय चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारी, मतदाता सूची के प्रकाशन को लेकर जारी किया कार्यक्रम