Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Friday, 25 March 2022

मधुबनी के तीन प्रखंडों के गली-मोहल्लों में पोषण का संदेश पहुंचायेगी जागरूकता रथ

 मधुबनी के तीन प्रखंडों के गली-मोहल्लों में पोषण का संदेश पहुंचायेगी जागरूकता रथ






•सेंटर फॉर कैटलाइजिंग चेंज के सहयोग से संचालित किया गया है पोषण रथ

• उप विकास आयुक्त ने झंडी दिखाकर रथ को किया रवाना

•पोषण के पांच मंत्रों से  दूर होगा कुपोषण

ऑडियो के माध्यम से लोगों में फैलायी जायेगी जागरूकता 


मधुबनी/25 मार्च 


पोषण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए  आईसीडीएस और स्वास्थ्य विभाग की ओर से समुदाय स्तर पर तमाम गतिविधियों का आयोजन किया जा रहा है। इसी कड़ी में लोगों को पोषण के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से  बाल विकास परियोजना कार्यालय( आईसीडीएस) से उप विकास आयुक्त विशाल राज ने पोषण जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर को रवाना किया। रथ जिले के तीन प्रखंड रहिका राजनगर तथा पंडोल  के गली-मुहल्लो में पोषण का संदेश पहुंचायेगी. जागरूकता रथ सेंटर फॉर कैटलाइजिंग चेंज के सहयोग से संचालित किया जा रहा है जो 24 मार्च से 24 अप्रैल तक चलाया जाएगा रथ लोगों के बीच ऑडियों के माध्यम से पोषण का संदेश देगी। उप विकास आयुक्त विशाल राज ने कहा  जागरूकता रथ का उद्देश्य लोगों को सही पोषण के लिए जागरूक करने के साथ ही गर्भावस्था में और बच्चों का ऊपरी आहार, खानपान के प्रति सजग रहने सहित शिशु जनित रोगों से मुक्ति के लिए सही जानकारी देना है। डीपीओ शोभा सिन्हा ने कहा कि पोषण रथ चलाने का  मुख्य उद्देश्य जिले के बच्चों, किशोरों एवं महिलाओं को कुपोषण मुक्त, स्वस्थ और मजबूत बनाना है। यह काम विभिन्न सरकारी विभागों के आपसी समन्वय से होगा। इसमें समाज कल्याण, स्वास्थ्य, पेयजल स्वच्छता, पंचायत राज आदि विभाग मिलकर काम करेंगे। 


पोषण के पांच सूत्रों को जन-जन तक पहुंचाने की कवायद:


 विकास आयुक्त ने बताया पोषण जागरूकता रथ ग्रामीण क्षेत्रों में पोषण के महत्व के बारे में बताएगा। कुपोषण को दूर करने के लिए पोषण के पांच सूत्र तैयार किये गये हैं। पहला सुनहरा 1000 दिन, डायरिया प्रबंधन, पौष्टिक आहार, स्वच्छता एंव साफ-सफाई, एनिमिया प्रबंधन शामिल है। इन पांच सूत्रों से कुपोषण पर लगाम लगाया जायेगा। 


गर्भावस्था के दौरान पौष्टिक भोजन का सेवन महत्वपूर्ण: 


आईसीडीएस डीपीओ शोभा सिन्हा ने बताया बच्चे के विकास के लिए सही पोषण बहुत महत्वपूर्ण है। खासकर शुरुआती वर्षों के दौरान। गर्भावस्था के दौरान पौष्टिक भोजन लेना बहुत महत्वपूर्ण है। इससे बच्चे की सेहत भी जुड़ी होती है। जन्म के बाद भी बच्चे को दो साल तक केवल पौष्टिक आहार ही देना चाहिए। गर्भावस्था और जन्म के बाद के शुरुआती वर्ष मस्तिष्क और अन्य महत्वपूर्ण अंगों के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। बच्चे के संपूर्ण विकास को सुनिश्चित करने के लिए विटामिन, कैल्शियम, आयरन, वसा और कार्बोहाइड्रेट जैसे पोषक तत्वों से भरपूर संतुलित आहार बच्चे को देना बहुत महत्वपूर्ण है।


जागरूकता रथ देगी ये जानाकरी:

जन्म के छह माह तक सिर्फ माँ का दूध पिलायें

छह माह के बाद बच्चों को पूरक आहार दें

गर्भवती होने पर आंगनबाड़ी केंद्र पर रजिस्टेशन करायें

बच्चों को खाना खिलाते समय साफ-सफाई का ध्यान रखें

गर्भावस्था के दौरान पौष्टिक आहार का सेवन करें

गर्भवती महिलाओं को आयरन की गोली जरूरी लेनी चाहिए


इस अवसर पर डीपीओ शोभा सिन्हा, मधुबनी, पोषण अभियान के जिला समन्वयक स्मित प्रतीक सिन्हा,सेंटर फॉर कैटालाइजिंग चेंज  जिला समन्वयक रघुनाथ प्रसाद कुशवाहा, जिला कार्यक्रम सहायक, शिवराम मेहरा, अंधराठाढ़ी की सीडीपीओ पिंकी कुमारी, सेविका एवं सहायिका मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages

फ्लोर टेस्ट के आदेश को शिवसेना ने SC में दी चुनौती, तत्काल रोक की मांग महाराष्ट्र सियासी संकट : फडनवीस ने राज्यपाल से की फ्लोर टेस्ट की मांग, एकनाथ शिंदे ने सोमवार की देर रात बुलाई आपात बैठक, उदयपुर : हत्यारोपियों के साथ कन्हैयालाल का समझौता कराने वाला पुलिसकर्मी सस्पेंड जमानत पर रिहा लालू प्रसाद की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, चारा घोटाले के इस मामले में सजा बढ़ाने की हुई मांग, सीबीआई ने कहा - कम मिली है सजा | बिहार- निकाय चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारी, मतदाता सूची के प्रकाशन को लेकर जारी किया कार्यक्रम