Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Wednesday, 13 April 2022

जिले के सभी प्रखंड 100 वीएचएसएनडी साइट पर ई - टेलीमेडिसीन के लिए चला मेगाड्राइव

 जिले के  सभी प्रखंड 100 वीएचएसएनडी साइट पर ई - टेलीमेडिसीन के लिए चला मेगाड्राइव



•जिले के सभी 21 प्रखंड में बनाया गया हब व वीएचएसएनडी पर स्पोक 

•मरीजों को एएनएम द्वारा हब के चिकित्सकों से उपलब्ध कराई गई इलाज व परामर्श

•सप्ताह में दो दिन, बुधवार व शुक्रवार को मिलती है सुविधा व निःशुल्क  दवा 


मधुबनी, 13 अप्रैल । स्वास्थ्य सुविधाओं को जमीनी स्तर पर और ज्यादा प्रभावशाली बनाने को लेकर बुधवार को जिले के सभी 21 प्रखंड के प्रत्येक प्रखंड मे 100 वीएचएसएनडी साइट पर ई - टेलीमेडिसीन के लिए मेगाड्राइव चलाया गया जिसके संचालन के लिए प्रखंड में हब व वीएचएसएनडी पर स्पोक बनाया गया था. मरीजों को एएनएम द्वारा हब के चिकित्सकों से  इलाज व परामर्श उपलब्ध कराई गई यह सुबिधा सप्ताह में दो दिन, बुधवार व शुक्रवार को मिलती है साथ ही निःशुल्क  दवा उपलब्ध कराई जाती है. योजना के तहत मरीजों को एएनएम द्वारा हब के चिकित्सकों से वीडियो कॉल के माध्यम से इलाज व परामर्श की सुविधा उपलब्ध कराई गई। सिविल सर्जन डॉ सुनील कुमार झा ने बताया ई-संजीवनी कार्यक्रम के तहत मिलने वाली निःशुल्क टेलीमेडिसीन के जरिये अब घर बैठे मरीजों का न केवल इलाज होगा, बल्कि उन्हें घर पर दवा भी उपलब्ध करा दी जाएगी। जिले में इसे लेकर बुधवार को ड्राई रन का आयोजन किया गया।  ऑनलाइन तरीके से मरीज, डॉक्टर से रूबरू हो अपना इलाज करवा सकते हैं। मरीज की जांच रिपोर्ट व उसके द्वारा बताई गई परेशानी व लक्षण के आधार पर डॉक्टर मरीज को दवा लिखते हैं । 


आंगनबाड़ी केन्द्रों के वीएचएसएनडी सत्रों पर मिली सुविधा : 


डॉ. झा ने बताया, यह सेवा जिले के चयनित आंगनबाड़ी केन्द्रों पर उपलव्ध कराई जाती है। इसके लिए  दिये जाने वाले वीएचएसएनडी सत्रों व सेवाओं के साथ इन अतिरिक्त चिकित्सीय सुविधाओं को जोड़ा गया है। वीएचएसएनडी सत्र स्थलों पर टेलीकंस्लटेशन के दौरान गर्भवती महिलायें, अतिकुपोषित बच्चों से जुड़े उच्च जोखिम वाले मामले आदि में रेफरल सुविधा उपलब्ध कराया जाता है। इसके साथ ही रोगी को रेफर किये गये स्वास्थ्य संस्थान से रोगी के स्वास्थ्य की अद्यतन जानकारी को प्राप्त किया जाना है। टेलीमेडिसीन की स्वास्थ्य सुविधा लेने के लिए मरीजों को अपने नजदीकी चयनित स्वास्थ्य संस्थान पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन कराना होता है। जिसके बाद वहां तैनात एएनएम द्वारा ऑनलाइन विभाग द्वारा जारी पोर्टल के माध्यम के टेलीमेडिसीन स्वास्थ्य सेवा की सुविधा दिलाई जाती है । जिसके बाद चिकित्सा परामर्श के अनुसार एएनएम मरीजों को दवाई समेत अन्य चिकित्सा सेवा सुनिश्चित कराते हैं ।


दूर दराज इलाकों के मरीजों को होती है सहूलियत :


जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी सुनील कुमार  ने बताया  ई-टेलीमेडिसीन के माध्यम से मरीजों को काफी सहूलियत से इलाज मुहैया कराया जा रहा है। इस सुविधा के माध्यम से जिले के दूर-दराज, कमजोर एवं वंचित तबकों तक स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध हो सकेंगी। सुदूर आवासित लोगों को सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में आने-जाने के काफी दूरी का सफर तय करना पड़ता था, जो अब उन्हें नहीं करना पड़ेगा। इसकी सबसे खास बात यह है कि मरीज का ऑनलाइन परीक्षण करने के बाद चिकित्सकों द्वारा पीएचसी पर उपलब्ध दवाएं ही लिखी जाएंगी। साथ ही, जटिल बीमारियों के लिए दवाएं कुरियर के माध्यम से भी पहुंचाई जाएंगी। ताकि, मरीज का सफल इलाज किया जा सके।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages

फ्लोर टेस्ट के आदेश को शिवसेना ने SC में दी चुनौती, तत्काल रोक की मांग महाराष्ट्र सियासी संकट : फडनवीस ने राज्यपाल से की फ्लोर टेस्ट की मांग, एकनाथ शिंदे ने सोमवार की देर रात बुलाई आपात बैठक, उदयपुर : हत्यारोपियों के साथ कन्हैयालाल का समझौता कराने वाला पुलिसकर्मी सस्पेंड जमानत पर रिहा लालू प्रसाद की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, चारा घोटाले के इस मामले में सजा बढ़ाने की हुई मांग, सीबीआई ने कहा - कम मिली है सजा | बिहार- निकाय चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारी, मतदाता सूची के प्रकाशन को लेकर जारी किया कार्यक्रम