Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Saturday, 23 April 2022

कोरोना की चौथी लहर की आशंका के बीच मास्क का इस्तेमाल बेहद जरूरी : डॉ कुणाल कौशल

 कोरोना की चौथी लहर की आशंका के बीच मास्क का इस्तेमाल बेहद जरूरी : डॉ कुणाल कौशल 



-मास्क को समय पर बदलना आवश्यक

-मास्क का समुचित तरीके से लोग नहीं कर रहे इस्तेमाल


मधुबनी ,22 अप्रैल। कोरोना के नये केस बढ़ने के साथ चौथी लहर की आशंका बढ़ गयी है। ऐसी स्थिति में संक्रमण से बचाव के लिए भारत सरकार के गाइडलाइन के अनुसार कोविड अनुरूप व्यवहार का पालन करना आवश्यक है । सदर अस्पताल मधुबनी के कोविड-19 के नोडल ऑफिसर डॉ कुणाल कौशल ने बताया कि संक्रमण से बचाव के लिए मास्क का सही तरीके से इस्तेमाल करना जरूरी है। बताया संक्रमण के मामले कम होने से लोग लापरवाह होने लग गए तथा मास्क का नियमित प्रयोग करने से परहेज करने लगे हैं। वहीं कई लोग टीके की दूसरी डोज लेने के बाद निश्चिंत हो गए कि संक्रमण हमें नहीं हो सकता। उन्होंने बताया ऐसा नहीं है टीके की दोनों खुराक लेने के बाद भी मास्क का नियमित प्रयोग करना अनिवार्य है। कोरोना वायरस से बचने के लिए मास्क के इस्तेमाल को सबसे उपयोगी माना गया है।


मास्क पहनने के फायदे :

•मास्क पहने पर  आप खुद के साथ-साथ दूसरों की भी सुरक्षा करते हैं.

• भीड़भाड़ वाले जगहों पर जाने से पहले संक्रमण के बचाव के लिए मास्क बेहद जरूरी है.

•मास्क से कोविड के साथ-साथ टीबी और इन्फ्लूएंजा जैसी अन्य श्वसन संबंधी बीमारियों के प्रसार को रोकने में भी मदद मिलती है.

•कोविड -19 मुख्य रूप से श्वसन बूंदों के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। जब आप खांसते, छींकते हैं, बात करते हैं तो श्वसन की बूंदें हवा में चली जाती हैं। फिर ये बूंदें आपके आस-पास के लोगों के मुंह या नाक में जा सकती है । मास्क संक्रामक वायरल कणों से युक्त श्वसन बूंदों का प्रसार कम करने में मदद कर सकता है।

•स्वस्थ व्यक्ति को भी मास्क पहनना चाहिए, क्योंकि  कोविड -19 वाले लोग जिनमें कभी भी लक्षण विकसित नहीं हुए वे मास्क ना पहनकर अन्य लोगों में वायरस फैला सकते हैं।

•यदि आप संक्रमित हैं लेकिन लक्षण नहीं दिखा रहे हैं तो मास्क पहनने से आपके आस-पास के लोगों की रक्षा करने में मदद मिलती है.

•मास्क पहनना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है जब आप उन लोगों के साथ घर के अंदर होते हैं। जिनके साथ आप नहीं रहते हैं और जब आप कम से कम 6 फीट अलग रहने में असमर्थ होते हैं, क्योंकि कोविड -19 मुख्य रूप से उन लोगों के बीच फैलता है, जो एक-दूसरे के निकट संपर्क में हैं।

•कपड़े का मास्क भी आपको कुछ सुरक्षा प्रदान करता है।


ऐसे बदलावों को देखते ही बदलें अपना मास्क-

मास्क लगाए हैं और यदि अपने मास्क में इनमें से कोई भी परिवर्तन देखते हैं, तो इसका उपयोग बंद कर देना चाहिए:

•यदि आपका मास्क गीला हो गया हो।

•मास्क पसीने से भीग गया हो

•मास्क पर धूलकण जम गए हों

•मास्क आपके चेहरे पर ठीक से फिट नहीं बैठ रहा हो

•आपके मास्क का इलास्टिक खराब हो गया हो.


कोविड अनुरूप व्यवहार है जरूरी:

डॉ कौशल  ने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए मास्क  जरूरी है। इसके अलावा भीड़भाड से बचाव आवश्यक है। वहीं कोरोना से रक्षा के लिए हाथ एवं शरीर को स्वच्छ रखना आवश्यक है। इन उपायों के द्वारा हम संक्रमण से बचाव कर सकते। किसी प्रकार का संदेह होने पर लोगों को निकट के सरकारी अस्पताल में जाकर जांच करानी चाहिए। वहां निःशुल्क रूप से कोरोना वायरस जांच की सुविधा उपलब्ध है। वहीं जांच उपरांत रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर चिकित्सक से उपचार की सुविधा का लाभ उठायें।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages

फ्लोर टेस्ट के आदेश को शिवसेना ने SC में दी चुनौती, तत्काल रोक की मांग महाराष्ट्र सियासी संकट : फडनवीस ने राज्यपाल से की फ्लोर टेस्ट की मांग, एकनाथ शिंदे ने सोमवार की देर रात बुलाई आपात बैठक, उदयपुर : हत्यारोपियों के साथ कन्हैयालाल का समझौता कराने वाला पुलिसकर्मी सस्पेंड जमानत पर रिहा लालू प्रसाद की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, चारा घोटाले के इस मामले में सजा बढ़ाने की हुई मांग, सीबीआई ने कहा - कम मिली है सजा | बिहार- निकाय चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारी, मतदाता सूची के प्रकाशन को लेकर जारी किया कार्यक्रम